Blogger: डॉ. जेन्नी शबनम at लम्हों का सफ़...
चाँद (चाँद पर 10 हाइकु)   *******   1.   बिछ जो गई   रोशनी की चादर   चाँद है खुश।   2.   सबका प्यारा   कई रिश्तों में दिखा   दुलारा चाँद।   3.   सह न सका   सूरज की तपिश   चाँद जा छुपा।   4.   धुँधला दिखा   प्रदूषण से हारा   पूर्णिमा चाँद। ...
clicks 0 View   Vote 0 Vote   9:52pm 18 Oct 2019
Blogger: rozkiroti at रोज़ की रोटी -...
      सदियों से युद्ध और लड़ाईयाँ झेल रहे यरूशलेम शहर का वर्तमान आधुनिक भाग, उसके अपने ही मलबे पर बना हुआ है। जब हम पारिवारिक भ्रमण पर यरूशलेम गए हुए थे , तो हम ‘विया डोलोरोसा’ अर्थात पीड़ा के मार्ग पर से भी होकर चले, जिसके लिए कहा जाता है कि प्रभु यीशु मसीह अपने क्रूस...
clicks 0 View   Vote 0 Vote   8:45pm 18 Oct 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
--कर्णधारों की कुटिलता देखकर,देश का दूषित हुआ वातावरण।सभ्यता, शालीनता के गाँव में,खो गया जाने कहाँ है आचरण?--सुर हुए गायब, मृदुल शुभगान में,गन्ध है अपमान की, सम्मान में,आब खोता जा रहा अन्तःकरण।खो गया जाने कहाँ है आचरण?--शब्द अपनी प्राञ्जलता खो रहा,ह्रास अपनी वर्त...
clicks 2 View   Vote 0 Vote   5:34pm 18 Oct 2019
Blogger: shikha kaushik at भारतीय नारी...
दिखावा और औरतें आज के समय में एक दूसरे के पर्याय बने हुए हैं. थे तो पहले से ही, पर आज कुछ ज्यादा ही हो गए हैं और ऐसा नहीं है कि ऐसा मैं किसी व्यक्तिगत चिढ़ की वजह से कह रही हूँ बल्कि मैंने आज की औरतों को देखा है और महसूस किया है कि महज दिखावे के लिए ये अपनी सारी जिंदगी तबाह कर ...
clicks 5 View   Vote 0 Vote   1:22pm 18 Oct 2019
Blogger: shalini kaushik at ! कौशल !...
दिखावा और औरतें आज के समय में एक दूसरे के पर्याय बने हुए हैं. थे तो पहले से ही, पर आज कुछ ज्यादा ही हो गए हैं और ऐसा नहीं है कि ऐसा मैं किसी व्यक्तिगत चिढ़ की वजह से कह रही हूँ बल्कि मैंने आज की औरतों को देखा है और महसूस किया है कि महज दिखावे के लिए ये अपनी सारी जिंदगी तबाह कर ...
clicks 3 View   Vote 0 Vote   1:19pm 18 Oct 2019
Blogger: akhilesh at Saans, The Life.Com...
क्या आपके भी बाल झड़ रहे हैं, क्या आपके भी बाल असमय सफ़ेद हो रहे हैं, पतले और कमजोर हो रहे हैं ? यदि इन प्रश्नो का जवाब हाँ है तब तो यह पोस्ट आपके लिए ही है और इसे आपको न केवल जरूर पढ़ना चाहिए बल्कि अपने जीवन में इसे उतारना भी चाहिए।काले,घने और लम्बे बाल हर लड़की का सपना होते हैं। ...
clicks 3 View   Vote 0 Vote   12:59pm 18 Oct 2019
Blogger: Amit Mishra at अनकहे किस्से...
शिथिल पड़ी इच्छाओं कोसहसा ही कोई उछाल गयाथा कौन मेरा? क्या अपना था?क्यों अपनी आदत डाल गयाबंजर बस्ती सूनी गलियांबरसों से बरखा को तरसीडेरा डाले पतझड़ बैठाना बूंदें सावन में बरसीआँगन की सूखी तुलसी मेंक्यों फ़िर से जल वो डाल गयाथा कौन मेरा? क्या अपना था?क्यों अपनी आदत डाल गय...
clicks 6 View   Vote 0 Vote   12:40pm 18 Oct 2019
Blogger: Anshu Mali Rastogi at चिकोटी...
मेरे एक मित्र का टमाटर का बड़ा करोबार है। उसके बाप दादा भी यही काम किया करते थे। अब बेटा उनके कारोबार को आगे बढ़ा रहा है। टमाटर बेचकर उसने अपनी शानदार कोठी खड़ी कर ली। एक महंगी कार ले ली। बच्चे भी शहर के ऊंचे स्कूलों में पढ़ रहे हैं। कुल मिलाकर मित्र की लाइफ टनाटन चल रही है।ह...
clicks 7 View   Vote 0 Vote   9:39am 18 Oct 2019
Blogger: Shah Nawaz at प्रेमरस...
क्या हमारी महान मातृभाषा "हिन्दी" हमारे अपने ही देश हिंदुस्तान में रोज़गार के अवसरों में बाधक है? बोलनेवालों की संख्या के हिसाब से दुनिया की दूसरे नं॰ की भाषा "हिंदी" अगर अपने ही देश में रोज़गार के अवसरों में बाधक बनी हुई है तो इसका कारण हमारी सोच है. हम अपनी भाषा को उचित स्थान नहीं देते हैं अपितु अंग्रेजी जैसी भाषा का प्रयोग करने में गर्व महसूस करते हैं. मेरे विचार से हमें अपना नजरिया बदलने की ज़रूरत है. हमें कार्यालयों में ज्यादा से ज्यादा हिंदी के प्रयोग को बढ़ावा देना चाहिए. कोरिया, जापान, चीन, ताईवान, तुर्की एवं अन्य यूरोपियन देशो की तरह हमें भी हमें भी अपने देश की सर्वाधि...
clicks 8 View   Vote 0 Vote   9:30am 18 Oct 2019
Blogger: Dr. Harimohan Gupt at Dr. Hari Mohan Gupt...
सदा सफलता चरण चूमती, हार न मानो,सम्बन्धों को जीवन में व्योपार न मानो.चरैवेति ही जीवन का सिध्दान्त सदा से,कठिन परिश्रम को जीवन में भार न मानो |           तुम करो मेहनत अभी से, लक्ष्य हो परहित तुम्हारा,           देश  की  हो  सहज  सेवा, धर्म  ...
clicks 3 View   Vote 0 Vote   8:41am 18 Oct 2019
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Hot List : Hamarivani.com - Mobile
Hot List: (Latest Populer Posts)
Latest
 
CONTACT US ADVERTISE T&C [ FULL SITE ]

Copyright © 20018-2019