Blogger: दिगम्बर नासवा at स्वप्न मेरे ......
माँ का आँचल शीतल पीपल देख रहामौन तपस्वी अविचल पीपल देख रहा शरद, शिशिर हेमंत गीष्म बैसाखी वर्षा ऋतु परिवर्तन प्रतिपल पीपल देख रहा कोयल की कू कू कागा की कोलाहल उत्पाती पक्षी दल पीपल देख रहा शैशव की किलकारी यौवन की आशावृद्ध निराशा पल पल पीपल देख रहा  पञ्च-तत्व अग्नि तर्...
clicks 0 View   Vote 0 Vote   9:06am 16 Sep 2019
Blogger: प्रमोद जोशी at जिज्ञासा...
अस्सी के दशक में जब अफ़ग़ान मुज़ाहिदीन रूसी सेना के खिलाफ लड़ रहे थे, तब अमेरिका उनके पीछे था। अमेरिका के ‘डिक्लैसिफाइड’ खुफिया दस्तावेजों के अनुसार 11 सितंबर 2001 के अल कायदा हमले के कई बरस पहले बिल क्लिंटन प्रशासन का तालिबान के साथ राब्ता था। वहाँ अंतरराष्ट्रीय सहयोग ...
clicks 1 View   Vote 0 Vote   8:16am 16 Sep 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at चर्चामंच...
मित्रों! सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') -- दोहे   "हिन्दी है परतन्त्र"   उच्चारण  -- मातृत्व का मरहम है हिंदी  गूँगी गुड़िया पर Anita saini  -- अपनी लगती है हिंदी  नमस्ते namaste पर  noopuram   -- आओ हिंदी दिवस मनाऍं  ...
clicks 1 View   Vote 0 Vote   3:00am 16 Sep 2019
Blogger: माधवी रंजना at DAANAPAANI...
नीर झरना से लौटकर तपोवन पहुंचने के बाद लक्ष्मण झूला की तरफ चल पड़ा। वैसे तो यहां कई बार आ चुका हूं। पर हर बार यहां आना सुखकर और कुछ नया लगता है। लक्ष्मण झूला के इस पार प्रकाशानंद का मंदिर और धर्मशाला है। झूला के इस पार लक्ष्मण जी की विशाल प्रतिमा भी है। यहां पर फ्रूट ...
clicks 1 View   Vote 0 Vote   12:00am 16 Sep 2019
Blogger: PAWAN KUMAR at Journey...
यह जग मेरा घर------------------हर पहलू का महद प्रयोजन, ऐसे ही तो जिंदगी में न कहीं बसते नव-व्यक्तित्वों से परिचय, नया परिवेश शनै निज-अंश बन जाता। कुछ लोग जैसे हमारे हेतु ही बने, मिलते ही माना प्राकृतिक मिलन जैसे अपना ही कुछ बिछुड़ा सा रूप, मात्र मिलन की प्रतीक्षा-चिर। ...
clicks 2 View   Vote 0 Vote   11:40pm 15 Sep 2019
Blogger: Poonam Srivastav at JHAROKHA...
फोटो क्रेडिट:हेमंत कुमार यात्राएंये यात्राएं भीकितनी अजीब होती हैं।जैसे हम गुजरते हुएटेढ़े मेढे रास्तों सेनदी नालों पहाड़ों के सौन्दर्य को देखते सराहते,आश्चर्यचकित होते अपने पीछे छोड़ते हुएआगे बढ़ते जाते हैंअपनी अपनी मंजिल की ओर।ठीक वैसे हीहमारी जिन्दगी का सफ़र भी...
clicks 3 View   Vote 0 Vote   8:34pm 15 Sep 2019
Blogger: डॉ आलोक त्रिपाठी at आँसू...
ऐप्रेम, तुमबसअव्यक्तरहो,अन्नन्तरहो, अशेषरहो।बिनआधारकेप्रवाहबनो,बिनध्यानकेअराध्यरहो।चेतनहोकरभीअवचेतनबनसृष्टिमेंतुमशाश्वतप्रवाहरहोआसक्ति, अनासक्तिसेसूदूर,अविरलअनन्य, परनिर्भावरहो।सासोंसदृशजीवनबनजियोतुमहोनेकीबसअनुभूतिरहोपरीक्षावपरिणामकोसोंदूरव...
clicks 3 View   Vote 0 Vote   4:21pm 15 Sep 2019
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at उच्चारण...
हो जायेंगे पाक के, अब तो टुकड़े पाँच।झूठ सदा ही जीतता, और हारता साँच।।-- पीओके बन जायगा, भारत का फिर अंग।होंगें तब कशमीर के, बन्धु-बान्धव संग।।-- सोच-समझकर फैसला, करती है सरकार।पूरे ही कशमीर पर, होगा अब अधिकार।।-- झेलेंगे अब हम नहीं, सीमा पर आतंक।धो देंगे इतिहास का, सार...
clicks 3 View   Vote 0 Vote   4:01pm 15 Sep 2019
Blogger: jafar at tHe Missed Beat...
कागज़ के उन टुकडो को दिल से लगा रखा हैं ,तेरे हरेक लब्ज़ को जिंदगी बना रखा हैं ,वो ख़त जो तुमने मेरे नाम किये .....दौरे तन्हाई में वो साथ चलते हैं ,मेरी थकानो में छाँव धरते  हैं ,सारे जहां में चाहे खिज़ा छाये वो फूल मेरे सिराहने महकते हैं .उस एक आग को ख़ुदमे में दबा रखा हैं ,कागज...
clicks 1 View   Vote 0 Vote   1:20pm 15 Sep 2019
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Hot List : Hamarivani.com - Mobile
Hot List: (Latest Populer Posts)
Latest
 
CONTACT US ADVERTISE T&C [ FULL SITE ]

Copyright © 20018-2019