लो क सं घ र्ष !

चौकीदार-चोर गिरोह की विदाई जनता तय कर रही है

बाराबंकी। चौकीदार-चोर-पेटकटवा गिरोह ने बैंक,बीमा बिजली सरकारी कर्मचारी संविदा कर्मचारी आशाबहू शिक्षामित्र आंगनबाड़ी पंचायत मित्र सहित संगठित और अंसग...
clicks 15  Vote 0 Vote  3:55pm 8 Jan 2019

अलीबाबा और राफेल दलाल

बाराबंकी !राफेल घोटालेे  लिप्त  मोदी सरकार ने उच्चतम न्यायालय में झूठा शपथ पत्र देकर जाँच सम्बन्धी याचिकाएं को तो खारिज करा लिया है किन्तु उनके इस भ्...
clicks 15  Vote 0 Vote  6:38pm 18 Dec 2018

चोर ही चौकीदार है

राफेल घोटाला, नोटबन्दी घोटाला, जी0एस0टी0 घोटाला और अब सी0बी0आई0 जैसी संस्था को नष्ट कर मोदी देश को दिवालिया बनाने की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।‘चोर ही चैकीदार...
clicks 26  Vote 0 Vote  3:31pm 20 Nov 2018

मौलाना आज़ाद के पद चिन्हों पर चल कर देशी अंग्रेजों को भगाया जा सकता है

             बाराबंकी -मौलाना आजाद की स्वतंत्रता संग्राम में उनकी  कुर्बानियों  ने देश को आजाद करानेमें महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है उ...
clicks 20  Vote 0 Vote  6:18pm 11 Nov 2018

पूर्व विधायक की स्मृति सभा का हुआ आयोजन

स्वः गजेन्द्र सिंह जो वादा करते उसे पूरा करते थे: फरीद महफूज किदवईराजनीतिक युग में जनता के सर्व सुलभ राजनेता थे: फवाद किदवईपूर्व मंत्री बोलते हुए ब...
clicks 25  Vote 0 Vote  5:33pm 30 Oct 2018

प्रधानमंत्री मोदी खुद राफेल घोटाले में संलिप्त है-रणधीर सिंह सुमन

  बाराबंकी। भ्रष्टाचार के कारण आज सी0बी0आई0 मुख्यालय को सील करना पड़ गया है। प्रधानमंत्री मोदी स्ंवय राफेल घोटाले में संलिप्त है।          ...
clicks 39  Vote 0 Vote  5:59pm 24 Oct 2018

मनुष्यता ही मनुष्य का सबसे बड़ा गुण है- डॉ सुभाष राय

 बाराबंकी. मनुष्यता ही मनुष्य का सबसे बड़ा गुण है मनुष्यता का अभाव सत्ता के शिखर पर बैठे हुए राजनीतज्ञों में है जिस कारण से सामाजिक व्यवस्था नष्ट हो रही ...
clicks 85  Vote 0 Vote  4:44pm 30 Sep 2018

चोर चौकीदार और भगवा कसाईखाना: भाकपा का जुलुस

गली-गली में शोर हैं चौकीदार ही चोर हैं या भगवा कसाई खाना बंद करो जैसे नारे लगाते हुए भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के कार्यकर्ताओं ने जलूस निकाला। भारतीय कम्...
clicks 53  Vote 0 Vote  2:49pm 25 Sep 2018

1964 का पश्चिम बंगाल दंगा

मेरी पत्रकारिता की जिन्दगी में इस तरह के मामलात अक्सर पेश आए जब मुझे दोहरी जिम्मेदारी का निर्वाह करना पड़ा। अखबार के साथ मिल्लत के मसलां व मामलात में अमल...
clicks 43  Vote 0 Vote  8:54am 25 Sep 2018

जनगीतों का सामाजिक सन्दर्भ

डॉ राजेश मल्ल साहित्य अपने अन्तिम निष्कर्षों में एक सामाजिक उत्पाद होता है। कत्र्ता के घोर उपेक्षा के बावजूद समय और समाज की सच्चाई उसके होठों  प...
clicks 98  Vote 0 Vote  5:36pm 20 Sep 2018
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013