! कौशल !

इंदिरा गांधी जी को सादर नमन

अदा रखती थी मुख्तलिफ ,इरादे नेक रखती थी ,वतन की खातिर मिटने को सदा तैयार रहती थी ...............................................................................मोम की गुड़िया की जैसी ,वे नेता वानर दल की थी ,,...
clicks 48  Vote 0 Vote  2:31pm 19 Nov 2018

गले लगाकर आज अयोध्या भारत देश बनाएंगे.

वसुंधरा के हर कोने को जगमग आज बनायेंगे ,जाति-धर्म का भेद-भूलकर मिलकर दीप जलाएंगे ........................................................................पूजन मात्र आराधन से मात विराजें कभी नहीं ,होत ...
clicks 47  Vote 0 Vote  9:52pm 3 Nov 2018

2 अक्टूबर

एक की लाठी सत्य अहिंसा एक मूर्ति सादगी की,दोनों ने ही अलख जगाई देश की खातिर मरने की ...........................................................................जेल में जाते बापू बढ़कर सहते मार अहिंसा मे...
clicks 82  Vote 0 Vote  8:33pm 1 Oct 2018

आओ मिलकर करें सिमरन

अर्पण करते स्व-जीवन शिक्षा की अलख जगाने में ,रत रहते प्रतिपल-प्रतिदिन  शिक्षा की राह बनाने में ...........................................................................................आओ मिलकर करें स्मरण ...
clicks 91  Vote 0 Vote  11:32am 5 Sep 2018

राजीव गांधी को नमन

एक  नमन  राजीव  जी  को  आज उनकी जयंती के  अवसर पर.राजीव जी बचपन से हमारे प्रिय नेता रहे आज भी याद है कि इंदिरा जी के निधन के समय हम सभी कैसे चाह ...
clicks 97  Vote 0 Vote  8:05pm 19 Aug 2018

तिरंगे की आह

फ़िरदौस इस वतन में फ़रहत नहीं रही ,पुरवाई मुहब्बत की यहाँ अब नहीं रही .......................................................................................नारी का जिस्म रौंद रहे जानवर बनकर ,हैवानियत में कोई क...
clicks 113  Vote 0 Vote  3:18pm 10 Aug 2018

बहकावे में धरने पर बैठे शामली अधिवक्ता

शामली के अधिवक्ता अनैतिक धरना-प्रदर्शन की राह पर चल पड़े हैं ,जहाँ कैराना में जिला न्यायाधीश की कोर्ट की स्थापना के लिए हाईकोर्ट व् सरकार के कदम बढ़ते हैं त...
clicks 67  Vote 0 Vote  1:28pm 13 Jul 2018

जिला जज कोर्ट कैराना में

शामली 28 सितम्बर २०११ को मुज़फ्फरनगर से अलग करके एक जिले के रूप में स्थापित किया गया .जिला बनने से पूर्व शामली तहसील रहा है और यहाँ तहसील सम्बन्धी कार्य ही ...
clicks 50  Vote 0 Vote  1:11pm 13 Jul 2018

झुका दूँ शीश...... पितृ दिवस के अवसर पर

झुका दूं शीश अपना ये बिना सोचे जिन चरणों में ,ऐसे पावन चरण मेरे पिता के कहलाते हैं .................................................................................... बेटे-बेटियों में फर्क जो करते यहाँ ,ऐस...
clicks 78  Vote 0 Vote  5:04pm 15 Jun 2018

औरतें जी का जंजाल - कांधला से कैराना

   कांधला से कैराना और पानीपत ,एक ऐसी बस यात्रा जिसे भुला पाना शायद भारत के सबसे बड़े घुमक्कड़ व् यात्रा वृतांत लिखने वाले राहुल सांकृत्यायन जी के लिए भी ...
clicks 111  Vote 0 Vote  8:17am 8 Jun 2018
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013