कुछ अलग सा

कभी-कभी कोई फिल्म आपके साथ घर तक चली आती है

एक दिन पहले ही आलिया की फिल्म "राजी"भी वहीँ लगी हुई थी, पुरानी लत के कीड़े ने जोर मारा ! प्रस्ताव पेश किया तो मना किसने करना था, सारे एक से बढ़ कर एक शौकीन; पर ...
clicks 0  Vote 0 Vote  2:48pm 14 May 2018

काश ! हिंदी फिल्मों को सत्यजीत रे का सहारा मिला होता

अपराजितो फिल्म का एक सीन, जिसमें अपु अपनी माँ से कहता है कि उसे सुबह की ट्रेन पकड़नी है सो जल्दी उठा देना। सीधी व साधारण सी बात है कि अगले दृश्य...
clicks 13  Vote 0 Vote  1:54pm 3 May 2018

मेरी समझ में तो नहीं आता यह सब ? आपको आता है क्या ?

तलाशी लेने, छापा मारने, किसी को पकड़ने या अपराधी का पीछा करते हुए पुलिस सायरन बजाते क्यों घूमती है ? रात को चौकीदार डंडा पटक, सीटी बजा कर पहरेदारी क्यों ...
clicks 9  Vote 0 Vote  4:04pm 30 Apr 2018

सबकी प्यारी , पर जेब पर भारी......मेट्रो

दिनों-दिन बढ़ाई जाती कीमतों से तो यही लगता है कि मंशा-ए-हाकिम यही है कि मुश्किल हालातों में किसी तरह गुजर कर रहे नागरिकों के पास की दमड़ी को भी तरह-तरह के ...
clicks 9  Vote 0 Vote  5:33pm 27 Apr 2018

मलेरिया दिवस, आज मच्छरों को बचाना है कि निपटाना है ? :-)

सुबह से ही भम्भल-भूसे में हूँ कि आज के दिन का उद्देश्य क्या है ? क्योंकि हमारे यहां रिवायत है कि दिवस उसी का मनाया जाता है जिसके अस्तित्व पर हम खुद ख...
clicks 9  Vote 0 Vote  5:50pm 25 Apr 2018

ल्ल ! हो गईल चार..!

एक रात जब एक पहरेदार ने सुबह चार बजे की सुचना घंटा बजा कर दी, तो दूसरे ने पूछा, का हो, मिसिर ! केतना बजइले ? पहला बोला, चार ! पर हम तो तीन ठो सुनले हईं ! पहला बो...
clicks 21  Vote 0 Vote  1:26pm 18 Apr 2018

सीधे पढ़ो तो रामायण, विपरीत पढ़ो तो भागवत; एक अद्भुत ग्रंथ "राघवयादवीयम्"

कवि वेंकटाध्वरि रचित ‘राघवयादवीयम्’ एक विलक्षण ग्रंथ है। इस ग्रंथ की विशेषता और अद्भुत खासियत यह है कि इसमें के 30 श्लोकों को अगर&nb...
clicks 8  Vote 0 Vote  10:41am 13 Apr 2018

"राघवयादवीयम्"एक अद्भुत ग्रंथ

कवि वेंकटाध्वरि रचित ‘राघवयादवीयम्’ एक विलक्षण ग्रंथ है। इस ग्रंथ की विशेषता और अद्भुत खासियत यह है कि इसमें के 30 श्लोकों को अगर&nb...
clicks 22  Vote 0 Vote  10:41am 13 Apr 2018

'ठ'से 'ठठेरा' ! कौन है यह ?

युवक अपने बच्चे को हिंदी वर्णमाला के अक्षरों से परिचित करवा रहा था। आजकल के अंग्रेजियत के समय में यह एक दुर्लभ वार्तालाप था सो मेरा सारा ध्या...
clicks 9  Vote 0 Vote  6:40pm 11 Apr 2018

फिल्म "हिंदी मीडियम"असली जीवन में मंचित हुई, दिल्ली में

पिछले साल एक फिल्म "हिंदी मीडियम"आई थी। जिसमें एक धनाढ्य व्यक्ति खुद को गरीब तबके का साबित कर अपने बच्चे को एक प्रतिष्ठित स्कूल में, आरक्षित कोटे ...
clicks 9  Vote 0 Vote  4:17pm 8 Apr 2018
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013