मन पाए विश्राम जहाँ

राह पर मन की गुजरते

राह पर मन की गुजरते आज जीलें अभी जीलें जो कल कभी आया नहीं, जिन्दगी ने गीत उसके सुर साज पर गाया नहीं ! सुख समाया इस घड़ी में हम जहाँ पल भर न ठहरे, वह छुपा ...
clicks 3  Vote 0 Vote  2:54pm 4 Apr 2019

माया की माया

माया की माया जो देख सकती है, वह आँख नहीं जानती भले-बुरे का भेद जो देख नहीं सकती, वह आत्मा  सब जानती है, फिर भी गिरती है गड्ढ में ! जो सुन सकता है, वह कर्ण न...
clicks 1  Vote 0 Vote  1:55pm 2 Apr 2019

इस उमंग का राज छुपा है

इस उमंग का राज छुपा है  जाने क्यों दिल डोला करता नहीं किसी को तोला करता, जब सब उसके ही बंदे हैं भेद न कोई भोला करता ! नयना चहक रहे क्यों आखिर अधरों पर स...
clicks 4  Vote 0 Vote  10:34am 29 Mar 2019

जीवन मधुरिम काव्य परम का

जीवन मधुरिम काव्य परम का फिरे सहज श्वासों की माला मन भाव सुगंध बने, जीवन मधुरिम काव्य परम का इक सरस प्रबंध बने ! जगती  के इस महायज्ञ में आहुति अपनी भी ...
clicks 4  Vote 0 Vote  10:54am 28 Mar 2019

दूर कोई गा रहा है

दूर कोई गा रहा है कौन जाने आस किसकी किस बहाने आँख ठिठकी  प्रीत की गागर बना दिल बेवजह छलका रहा है ! चढ़ हवाओं के परों पर अनुगूँज मुड़ जाती किधर कौन उस पर...
clicks 4  Vote 0 Vote  10:23am 27 Mar 2019

झर-झर झरता वह उजास सा

झर-झर झरता वह उजास सा  कोई पल-पल भेज सँदेसे  देता आमन्त्रण घर आओ,  कब तक यहाँ वहाँ भटकोगे  मस्त हो रहो, झूमो, गाओ ! कभी लुभाता सुना रागिनी  कभी ज्योति की प...
clicks 5  Vote 0 Vote  3:41pm 22 Mar 2019

अगन होलिका की है पावन

अगन होलिका की है पावन बासंती मौसम बौराया मन मदमस्त हुआ मुस्काया, फागुन पवन बही है जबसे अंतर में उल्लास समाया ! रंगों ने फिर दिया निमंत्रण मुक्त हो र...
clicks 33  Vote 0 Vote  11:48am 19 Mar 2019

बिखरा दूँ, फिर मुस्का लूँ

बिखरा दूँ, फिर मुस्का लूँ  खाली कर दूँ अपना दामन जग को सब कुछ दे डालूँ,  प्रीत ह्रदय की, गीत प्रणय के बिखरा दूँ, फिर मुस्का लूँ ! तन की दीवारों के पीछे म...
clicks 17  Vote 0 Vote  3:03pm 12 Mar 2019

सत्यमेव जयते

सत्यमेव जयते कहा जा रहा है जो भी कहा जाना चाहिए न ही छिपा है और न ही थमा है हो रहा है विरोध जो किया जाना चाहिए हर जुल्म के खिलाफ खड़ा है कोई न कोई ड...
clicks 9  Vote 0 Vote  10:53am 9 Mar 2019

जिन्दगी का गीत मिलकर

जिन्दगी का गीत मिलकर सादगी हो जिन्दगी में दिलों में थोड़ी शराफत, दिन कयामत अगर आये खुशदिली से करें स्वागत ! नफरतों की बात ना हो दूरियां मिट जाएंं दि...
clicks 8  Vote 0 Vote  10:57am 2 Mar 2019
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013