रूप-अरूप

सपने....

वक्‍त के चरखे पर उदासी का गीत है मुहब्‍बत की चादर बुनने कोकात रही हूं सपने....यकीन हैकुछ सपने पूरे भी होते हैं....। ...
clicks 35  Vote 0 Vote  10:38pm 18 Jan 2022

सांझ का चंदोवा

सांझ का चंदोवा तना हैरक्तांबर आकाश में डूबता जा रहा सूरज ...रत्ती सी पत्ती मुस्काती हैहौले - हौलेस्मृतियों की किवाड़ खुलने को है ......
clicks 53  Vote 0 Vote  6:49pm 12 Jan 2022

नए साल में ....

कहूँगी वो सबजो ज़रूरी होने के बाद भी चुपचाप सीने में दफन किया करती थी पीड़ा सहने और आँसुओं में डूबे रहने से किसी को रत्ती भर फ़र्क नहीं पड़ता हैनए ...
clicks 94  Vote 0 Vote  2:22pm 2 Jan 2022

हस्‍तशि‍ल्‍प वाला गॉंव पि‍पली

                                 कोई बात, कोई दृश्‍य, दि‍माग के कि‍सी कोने में ऐसी स्‍मृति‍ बन ठहर जाती है कि‍ बरसों बाद भी उस याद से आपके मन के ...
clicks 91  Vote 0 Vote  2:46pm 17 Dec 2021

दि‍संबर...

  कुछ और लंबी हो जाएगीयादों की फ़ेहरिस्तदेखते ही देखते गुजर जाएगा यह साल भीधूप सेंकने के बहानेछत के किसी कोने मेंयाद आएगी कुछ सीली बातें, अनकहे फ़सान...
clicks 76  Vote 0 Vote  2:07pm 12 Dec 2021

वक्‍त गुजार रहा था.....

उसके जाने के बहुत बाद समझ आया कि प्‍यार तोसिर्फ़ मुझे हुआ था वह तो बस साथ चल रहा था एक खूबसूरत सफर मानकर कि जब जहां मन उकताएरूक जाना या राह बदल लेना...
clicks 59  Vote 0 Vote  2:58pm 8 Dec 2021

हमें पता होना चाहिए ....

                                                      बरसों-बरस कभी खुद से कभी उससे यह सवाल पूछ्ती रही कि इस रिश्ते में इतना द...
clicks 59  Vote 0 Vote  2:46pm 7 Dec 2021

भीगा मन...

 नदीबहा ले जाती हैसारा अवसाद एक स्‍पर्श से उत्‍फुल्‍लहो जाता है तन, नदी के पास भी होता है हमारी तरह भीगा मन....। ...
clicks 115  Vote 0 Vote  10:13pm 18 Sep 2021

प्रेम-लहरी

                         कि‍सी को प्रेम करने से पहले       सीखो,पहाड़ की अडि‍गता, नदी सा बहना तभी हवाऍं गुनगुनाऍंगी प्रेम-लहरी ...
clicks 160  Vote 0 Vote  1:30pm 26 Aug 2021

चले भी आओ...

 चले भी आओसूरज डूबने को है कि‍ इंतजार के अँधेरे में कहीं गुम हो के न हम रह जाएँ ... ...
clicks 54  Vote 0 Vote  11:08pm 6 Aug 2021
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C [ FULL SITE ]

Copyright © 20018-2019