चिकोटी

कामयाबी के शिखर पर सेंसेक्स

सेंसेक्सने कामयाबी का एक और नया शिखर पार कर लिया। उसे कोटि-कोटि बधाई।दिली खुशी मिलती है सेंसेक्स को चढ़ता देख। बिना शोर-शराबा या शिकवा-शिकायत किए बेहद खा...
clicks 20  Vote 0 Vote  9:23am 9 Aug 2018

आइए, मुझे 'ट्रोल'कीजिए

यद्यपिमैं जानता हूं कि 'ट्रोल करना'या 'ट्रोल होना'दोनों ही सबसे खतरनाक सोशल अवस्थाएं हैं, फिर भी, मैं 'ट्रोल'होना चाहता हूं। ट्रोल होकर उससे मिलने वाले 'यश'...
clicks 20  Vote 0 Vote  11:29am 3 Aug 2018

ख्याली पुलाव और इमरान खान

ख्याली पुलावपकाने में हमारा जवाब नहीं। जब दिल किया किसी न किसी मसले पर ख्याली पुलाव पकाने बैठ गए। सबसे ज्यादा ख्याली पुलाव खाली दिमागों में ही पकते हैं।...
clicks 61  Vote 0 Vote  9:43am 31 Jul 2018

दिल मिले न मिले, गले मिलते रहिए

किस्मतवाले होते हैं वो जिन्हें किसी का गले लगना या आंख मारना नसीब होता है। वरना इस मतलबी दुनिया में किसे फुर्सत है, किसी के गले लगने या मौका भांप आंख मारन...
clicks 34  Vote 0 Vote  9:27am 24 Jul 2018

गले मिलना, आंख मारना : सियासत का एक रंग

अविश्वासप्रस्ताव को गिरना ही था, गिर गया। अब तक जिद के आगे जीत सुनते आए थे, इस दफा जिद के आगे हार देख ली। हार भी कोई ऐसी-वैसी नहीं, तगड़ी वाली। लेकिन गिरने या ...
clicks 24  Vote 0 Vote  10:33am 23 Jul 2018

हर कोई थूक रहा है

किसीवक़्त मुझे थूक और थूकने वालों से बहुत चिढ़ होती थी। किसी को भी थूकते देख दिमाग भन्ना जाता और दिल भीषण घृणा से भर उठता था। जी तो करता अभी उस बंदे का गिरेबा...
clicks 20  Vote 0 Vote  11:38am 20 Jul 2018

स्मार्टफोन न खरीद पाने का दुख

योंतो ऊपर वाले का दिया मेरे पास सबकुछ है, बस स्मार्टफोन ही नहीं है। ऐसा नहीं है कि मैं स्मार्टफोन खरीद नहीं सकता। खरीद सकता हूं, लेकिन खरीदता इसलिए नहीं क...
clicks 19  Vote 0 Vote  5:10pm 17 Jul 2018

जल्द ही मैं भी अपना लक पहनकर चल सकूंगा

मैंकई दिनों से इस कोशिश में लगा हूं कि अपना लक पहनकर चल सकूं। लेकिन लक है कि मेरे खांचे में ही नहीं आ पा रहा। जबकि लक की जरूरत के मुताबिक मैंने अपना आकार-प्...
clicks 26  Vote 0 Vote  2:16pm 13 Jul 2018

मेरे मरने के बाद...

जीते-जीइस बात का पता लगाना बेहद मुश्किल है कि ये दुनिया, समाज और नाते-रिश्तेदार आपके बारे में क्या और कैसा सोचते हैं। ये सब जानने के लिए आपको मरना पड़ेगा। क...
clicks 16  Vote 0 Vote  2:41pm 9 Jul 2018

देख लेना, गिरकर फिर उठेगा रुपया

गिरना एक स्वभाविक प्रक्रिया है। कुछ मैदान-ए-जंग में गिरते हैं तो कुछ मैदान-ए-बाजार में। गिरकर जो उठ या संभल नहीं पाते, दुनिया उन्हें बहुत जल्द भूला देती ह...
clicks 47  Vote 0 Vote  9:54am 4 Jul 2018
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013