चिकोटी

फिक्रमंद होने का बीमारी

लोगभी न फिक्रमंद होने का कोई मौका हाथ से जाने नहीं देते। अब देखिए, लोग इस बात पर फिक्रमंद हैं कि सिक्का ने इंफोसिस को क्यों छोड़ा? किसलिए छोड़ा? काहे इतनी ब...
clicks 0  Vote 0 Vote  8:45am 19 Aug 2017

दुनिया मुठ्ठी में

कईसाल पहले की बात है। देश की एक आला कंपनी ने देशवासियों को कर लो दुनिया मुठ्ठी में का मंत्र दिया था। मंत्र को हमने न केवल स-हृदय स्वीकारा बल्कि स्वागत भी क...
clicks 23  Vote 0 Vote  9:51am 14 Aug 2017

निफ्टी, तुम्हें अभी बहुत ऊपर जाना है

मैं सेंसेक्सऔर निफ्टी दोनों का समान प्रसंशक हूं। यह बात सही है कि मैंने जिस प्रखरता के साथ सेंसेक्स पर लिखा, उतना निफ्टी पर नहीं लिख पाया। निफ्टी पर न लिख...
clicks 21  Vote 0 Vote  1:16pm 8 Aug 2017

यारी-दोस्ती की टशनबाजियां

दोस्तोंकी किल्लत मुझे बचपन से कभी नहीं रही। लाइफ में एक से बढ़कर एक दोस्त बनाए। जमकर दोस्तबाजियां कीं। स्कूल-कॉलेज के दिनों की दोस्तियों ने नए मुकाम हास...
clicks 48  Vote 0 Vote  7:54pm 6 Aug 2017

माफ कीजिएगा, मेरे घर में टमाटर नहीं है

क्याआपके घर में टमाटर है?यह प्रश्न आजकल मुझे इतना ‘असहज’ किए हुए है कि मैं रातों को सो नहीं पा रहा। निगाहें हर वक्त दरवाजे की देहरे पर टिकी रहती हैं कि कही...
clicks 29  Vote 0 Vote  7:43am 4 Aug 2017

बुद्धिजीवि होने के खतरे

मैंबुद्धिजीवियोंकेमोहल्लेमेंरहताजरूरहूंमगरखुदबुद्धिजीविनहींहूं।उनसेहमेशादस-बीसकदमकीदूरीरखताहूं।उन्होंनेकईदफाकोशिशकीकिमैंउनकीबुद्धिजीवि...
clicks 61  Vote 0 Vote  7:31am 3 Aug 2017

आइए, प्रेमचंद को याद किया जाए

मेरीआदत है। हर रोज मैं किसी न किसी लेखक-साहित्यकार को याद कर लेता हूं। याद करने में कोई बुराई नहीं। दिल का दिल बहल जाता है। लेखक-साहित्यकार भी प्रसन्न हो ...
clicks 42  Vote 0 Vote  7:52am 30 Jul 2017

खामोश! तोता आजाद हो चुका है

तोताअब आजाद है। पूरी आजादी से अपने काम को अंजाम दे रहा है। तोते की आजादी बहुत लोगों को बेइंतहा खल रही है। रह-रहकर तमाम सवाल और आरोप तोते की आजादी पर वे लगा ...
clicks 28  Vote 0 Vote  10:02am 11 Jul 2017

अ-संस्कारी व्यंग्यकार

मेरे व्यंग्यमें ‘संस्कार’ नाम की चीज ‘न’ के बराबर है। ऐसा नहीं है कि मैंने कभी कोशिश नहीं की अपने लेखन में संस्कारों को डालने की। किंतु क्या करूं, हर बार ...
clicks 25  Vote 0 Vote  11:48am 8 Jul 2017

साहित्य के तईं नया राज्य

मुझेभी एक अलग राज्य चाहिए। राजनीति करने के लिए नहीं, साहित्य के लिए। हां, मुझे साहित्य के लिए नए राज्य की दरकार है। साहित्य के नए राज्य में मैं आपने हिसाब ...
clicks 53  Vote 0 Vote  10:13am 7 Jul 2017
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013