.मेरी अभिव्यक्ति

खुलकर# बरसने# दो इस बारा# !

खुलकर# बरसने# दो इस बारा# !चुभती गर्मी से पाने को छुटकारा , फिर सबने बारिश को है पुकारा ।जब आया शीतल बारिश का फुहारा , नाच उठा खुशि से जग सारा ।कुछ ही दिन था खु...
clicks 7  Vote 0 Vote  11:19pm 29 Jun 2018

कहता# नहीं मुंह# पर ........!

कहता# नहीं मुंह# पर ........! कितने फरेब पाल रखे है इंसा ,पर कोशिश होती है सच की तरह दिखाने की ।कोई समझ न पायेगा सोचता है इंसा ,खुश होता है सोचकर नादानियां जमाने ...
clicks 20  Vote 0 Vote  12:17am 16 Jun 2018

तुम आये पर दीदार# न हुआ तेरा# !

तुम आये पर दीदार# न हुआ तेरा# !तप्ती धूप की जलन इस पर पसीने की चुभन ,तुझसे मिलने का है मन , तेरे इंतज़ार में खड़े है हम ,तुम आये पर दीदार न हुआ तेरा ,क्योंकि चेहरे ...
clicks 21  Vote 0 Vote  10:14pm 30 May 2018

चाँद# तारे# तोड़ लाने का वादा# न कर सही !

चाँद# तारे# तोड़ लाने का वादा# न कर सही ।चाँद तारे तोड़ लाने का वादा न कर सही ।हर पल साथ चलने का इरादा तो कर सही ।मिले खुशियों के चार पल ग़ुम न हो कहीं ।इसमें ही त...
clicks 21  Vote 0 Vote  10:01pm 24 May 2018

है सूर्य# देवता# ..............!!!

है सूर्य# देवता# ..............!!!है सूर्य देवता! आपका इतना तपन भरा रोद्र रूप जायज है।क्योंकि हम इंसानों ने भी प्रकृति के साथ खूब किया छल है ,काट दिये जंगल है,नदी नाले ...
clicks 21  Vote 0 Vote  7:34am 19 May 2018

हे सूर्य# देवता# ..............!!!

हे सूर्य# देवता# ..............!!!हे सूर्य देवता! आपका इतना तपन भरा रोद्र रूप जायज है।क्योंकि हम इंसानों ने भी प्रकृति के साथ खूब किया छल है ,काट दिये जंगल है,नदी नाले ...
clicks 7  Vote 0 Vote  7:34am 19 May 2018

सुख,समृद्धि व शान है माँ की संजिदिगियां ।

भरी गर्मी में भी सेकती है रोटियां ,गर्म भाप और चूल्हे की लौ से उँगलियाँ जलाते हुये ।सुबह चाय की प्याली से मिटाती है उबासियां ,सर्द सुबहों में भी सबसे जल्द...
clicks 28  Vote 0 Vote  11:08pm 12 May 2018

क्या मिलेगा #बेटियों को #खिलखिलाता, #सुरक्षित और #सम्मानजनक जहान!

आज एक मासूम का सुरक्षित नहीं है मान सम्मान और जहान।आखिर बेटियों को क्यों शिकार बना रहा है  हर उम्र का इंसान।क्या हमारी सामाजिक व्यवस्था का धवस्त हो रहा...
clicks 27  Vote 0 Vote  10:19pm 20 Apr 2018

क्या मिलेगा #बेटियों को #खिलखिलाता और #सुरक्षित #जहान !

आज एक मासूम का सुरक्षित नहीं है मान सम्मान और जहान।आखिर बेटियों को क्यों शिकार बना रहा है  हर उम्र का इंसान।क्या हमारी सामाजिक व्यवस्था का धवस्त हो रहा...
clicks 16  Vote 0 Vote  10:19pm 20 Apr 2018

कब तक ज्यादिती# की बेदी# पर बेटी# चढ़ती रहेगी रोज!

कब तक ज्यादिती# की बेदी# पर बेटी# चढ़ती रहेगी रोज।जन्म से पहले ही तो सुरक्षित नहीं थी माँ की कोख ।दुनिया में आने से पहले अपने ही लगा रहे थे रोक ।जैसे तैसे इस द...
clicks 33  Vote 0 Vote  11:55pm 15 Apr 2018
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013