भारतीय नारी

रिश्ता सारमेय सुत का.--कहानी ---..डा श्याम गुप्त

- रिश्ता सारमेय सुत का.-----..डा श्याम गुप्त की कहानी ---- \\कालू कुत्ते ने झबरीली कुतिया का गेट खटखटाया और बोला,-'भौं .s.s.भौं ऊँ भुक -अरे कोई है। 'झबरीली ने गेट की सला...
clicks 2  Vote 0 Vote  11:06pm 9 Aug 2017

क्यों हम बेटियों को बचाएँ

क्यों हम बेटियों को बचाएँ“मुझे मत पढ़ाओ , मुझे मत बचाओ,, मेरी इज्जत अगर नहीं कर सकते ,तो मुझे इस दुनिया में ही मत लाओमत पूजो मुझे देवी बनाकर तुम ,मत कन्या रूप ...
clicks 2  Vote 0 Vote  7:22am 9 Aug 2017

नारी की लेके कदम-कदम अग्नि-परीक्षा

अवसर दिया श्रीराम ने पुरुषों को हर कदम ,अग्नि-परीक्षा नारी की तुम लेते रहोगे ,करती रहेगी सीता सदा मर्यादा का पालनपर ठेकेदार मर्यादा के यहाँ तुम ही रहोगे ......
clicks 30  Vote 0 Vote  1:20pm 31 Jul 2017

कठपुतली

माथे ऊपर हाथ वो धरकरबैठी पत्थर सी होकरजीवन अब ये कैसे चलेगाचले गए जब पिया छोड़कर..........................................बापू ने पैदा होते हीझाड़ू-पोंछा हाथ थमायामाँ ने चूल्हा-चौक...
clicks 26  Vote 0 Vote  10:06pm 26 Jul 2017

कब करोगे बेटी से इंसाफ?

   ''वकील साहब ''कुछ करो ,हम तो लुट  गए ,पैसे-पैसे को मोहताज़ हो गए ,हमारी बेटी को मारकर वो तो बरी हो गए और हम .....तारीख दर तारीख अदालत के सामने गुहार लगाने के ...
clicks 33  Vote 0 Vote  1:56pm 22 Jul 2017

अमर्यादित पुरुष --डा श्याम गुप्त

------अमर्यादित पुरुष ------ \\पहले महिलायें कहा करतीं थीं- ‘घर-बच्चों के मामले में टांग न अड़ाइए आप अपना काम देखिये|’ \आजकल वे कहने लगीं हैं- ‘घर के काम में भी पति क...
clicks 18  Vote 0 Vote  9:54am 10 Jul 2017

बदलो भारतीय नारी

चली है लाठी डंडे लेकर भारतीय नारी ,तोड़ेगी सारी बोतलें अब भारतीय नारी .................................................बहुत दिनों से सहते सहते बेदम हुई पड़ी थी ,तोड़ेगी उनकी हड्डियां आज भ...
clicks 24  Vote 0 Vote  3:54pm 8 Jul 2017

मेरे मन की....

मेरी पहली पुस्तक "मेरे मन की"की प्रिंटींग का काम पूरा हो चुका है | और यह पुस्तक बुक स्टोर पर आ चुकी है| आप सब ऑनलाइन गाथा के द्वारा बुक कर सकते है| मेरी पहली ...
clicks 57  Vote 0 Vote  5:28pm 22 Jun 2017

दुष्कर्मी कानून पर हावी

१६ दिसंबर २०१२ ,दामिनी गैंगरेप कांड ने हिला दिया था सियासत और समाज को ,चारो तरफ चीत्कार मची थी एक युवती के साथ हुई दरिंदगी को लेकर ,आंदोलन हुए ,सरकार पलटी ,द...
clicks 39  Vote 0 Vote  1:21pm 20 Jun 2017

आहार से उपजे विचार ही शिशु के व्यक्तित्व को बनाते हैं

आहार से उपजे  विचार ही  शिशु के व्यक्तित्व को बनाते हैं क्या मनुष्य केवल देह है या फिर उस देह में छिपा व्यक्तित्व?यह व्यक्तित्व क्या है और कैसे बनता है?...
clicks 37  Vote 0 Vote  2:06pm 19 Jun 2017
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013