गीतों की महफिल

जाते हो तो जाओ हम भी यहां, वादों के सहारे जी लेंगे-सज्जाद हुसैन की कठिन रचना

हिन्दी फिल्मों में सबसे जटिल और perfectionist संगीतकार अगर कोई थे तो वे सज्ज़ाद हुसैन यानि सज्ज़ाद। मैंडोलिन, सितार, वीणा, बैंजो, एकॉर्डियन, गिटार, क्लेरिनेट के अला...
clicks 17  Vote 0 Vote  10:00am 21 May 2019

रूम झूम बादोलो आजि बोरोशे: कमला झारिया

कई सालों पहले इस बांग्ला गीत का टुकड़ा मिला तब यह मुश्किल से तीस चालीस सैकंड का था, बरसों तक खोजने के बाद एक दिन आखिरकार यह  पूरा गाना मिल गया। तब से मैं इस ...
clicks 16  Vote 0 Vote  10:00am 17 May 2019

ले चल मोहे अपनी नागरिया: नलिनी जयवन्त/हुस्न बानो का दुर्लभ भजन

नलिनी जयवन्त को हमने ज्यादातर अभिनय करते ही देखा है, लेकिन उन्होने कई गीत भी गाए हैं। हिन्दी फिल्मों की शुरुआती फिल्मों की सबसे खूबसूरत और अच्छी अभिनेत्...
clicks 12  Vote 0 Vote  10:00am 16 May 2019

क्या तुझपे नज़्म लिखूँ, और कैसा गीत लिखूँ..सुन्दर रागमाला

शास्त्रीय संगीत के विभिन्न रागों को एक गीत में उन के नामों का जिक्र करते हुए और उसी राग में गाना कितना मुश्किल रहा होगा ग्वालियर घराने के प्रख्यात ठुमरी ...
clicks 31  Vote 0 Vote  10:36pm 21 Jun 2018

मारी सवा लाख री लूम गम गई इडाणी

जुलाई महीने में सूरत में भतीजी का विवाह था और वहां पूजा घर में कौड़ियों से सजी एक इडाणी (इडोनी/इढोनी...सर पर मटकी रखने से पहले रखने वाली कपडे की रिंग) दिख गई, फ...
clicks 92  Vote 0 Vote  8:56pm 28 Aug 2016

घन गरजत बादर आए.. मियां की मल्हार- अनोखी जुगलबन्दी

इस बार का सावन भी यूं ही सूखा बीत गया... आँखे तरस गई उन बूंदों के लिए जिन के तन पर गिरने से तन ही नहीं मन झूम भी उठता है। लेकिन तन को शीतलता तो जब मेहा आएंगे और ब...
clicks 107  Vote 0 Vote  9:30am 7 Sep 2015

सावन गगने घोर घनघटा-एक सुंदर बांग्ला गीत

45-46 डिग्री की गर्मी से हाल बेहाल है। इंतजार है कब बादल आएं और बरसे जिससे तन और मन को शीतलता मिले। लेकिन कुदरत के खेल कुदरत जाने, जब इन्द्र देव की मर्जी होगी ...
clicks 130  Vote 0 Vote  10:13pm 2 Jun 2014

भूली हुई दास्तान: राजस्थान कोकिला धीरा सेन

कभी राजस्थान कोकिला के रूप में राजस्थानी गायकी में अपनी धाक जमाये रखने वाली कलाकार धीरा सेन पर वीणा समूह की कला और संस्कृति को समर्पित मासिक पत्रिका ‘स्...
clicks 164  Vote 0 Vote  9:00am 15 Jan 2014

आज मिले मन के मीत: मन्ना दा का सुन्दर गीत

 रोज सुबह उठते ही मेरा सबसे पहला काम होता है या तो रेडियो सुनना या टीवी पर समाचार देखना, कल सुबह जैसे ही टीवी चालू किया... दिल धक्‍क रह गया। सामने स्क्रीन प...
clicks 168  Vote 0 Vote  12:14pm 25 Oct 2013

मैं तो गारी दूंगी: लताजी-अनिलदा का एक और सुन्दर गीत

मैने महफिल में अब तक सबसे ज्यादा किसी संगीतकार के गीतों को सुनवाया है तो वे हैं "अनिल विश्वास (अनिलदा)। कई गीत सुनवाने के बाद भी लगता है अभी बहुत से गीत हैं ...
clicks 263  Vote 0 Vote  9:00am 10 Feb 2013
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C [ FULL SITE ]

Copyright © 20018-2019