Yaadein

शुक्ला जी के बेटे

-Vir Vinod Chhabraहमें याद है कि हमारे परिवार में एक बच्चे को 'पंडत'अर्थात पंडित कहा जाता था। कारण यह था कि न वो मीट-मच्छी खाता था और न ही अपशब्द बोलता था। और इन सबसे दू...
clicks 13  Vote 0 Vote  1:34am 13 Aug 2017

अनजाने दोस्त

-वीर विनोद छाबरा हमारे एक अस्सी वर्षीय मित्र को खराब लगा जब एक सोसाइटी ने एक हमारे ८२ वर्षीय मित्र को न सिर्फ वयोवृद्ध घोषित किया गया बल्कि इसी नाते बाक़...
clicks 5  Vote 0 Vote  4:05pm 12 Aug 2017

दो बीघा ज़मीन।

-वीर विनोद छाबड़ाबिमल रॉय 'दो बीघा ज़मीन' (१९५३) बनाने की योजना बना रहे थे। कहानी कुछ यों थी। लगातार दो साल सूखा पड़ा। एक किसान शंभू महतो को दो बीघे का खेत ज़मीदा...
clicks 13  Vote 0 Vote  2:11am 12 Aug 2017

छपवा ही लें पुस्तक

- वीर विनोद छाबड़ाआज सुबह सुबह ही आ धमके हमारे एक बड़े भाई। दद्दा कहते हैं हम उन्हें। बोले - क्या लिख पढ़ रहे हो? हमने कहा - फेस बुक भर रहा हूं और उसी में से कुछ चु...
clicks 21  Vote 0 Vote  12:00am 11 Aug 2017

कड़ी मशक्कत से मिली इज़्ज़त

-वीर विनोद छाबड़ा अरब देश में बुखारी नाम के एक ज्ञानी-ध्यानी रहते थे। वो अपने ईमानदारी और साफगोई के लिए दूर दूर तक प्रसिद्ध थे। रोज़ सैकड़ों लोग उनसे सलाह-म...
clicks 14  Vote 0 Vote  4:26pm 9 Aug 2017

चैनल मीडिया तय करता है समाज के ठेकेदार

- वीर विनोद छाबड़ाबरसों से देख रहा हूं। सुबह-सुबह बाथरूम में घुस गए। घंटों लगाए। जम कर पानी बहाया। १०८ दफे ओम नमो शिवाय किया। पता नहीं नहाये भी कि नहीं। सर्...
clicks 7  Vote 0 Vote  4:05pm 9 Aug 2017

हम गरीबों का हेल्थ बुलेटिन

- वीर विनोद छाबड़ाचूंकि मैं बहुत बड़ा व्यापारी नहीं हूं। प्रशासनिक अधिकारी या वरिष्ठ लेखक नहीं हूँ और न नेता हूं। इसलिए मुझे अपना हेल्थ बुलेटिन खुद जारी क...
clicks 51  Vote 0 Vote  10:41am 8 Aug 2017

इक हसीं ख्वाब।

- वीर विनोद छाबड़ा कल दोपहर खाना खाने के बाद जो नींद आयी तो शाम को ही टूटी। टूटी नहीं बल्कि तोड़ी गयी। मेमसाब 'चाय चाय'करती हुईं आयीं और एक झटके में तोड़ कर गय...
clicks 12  Vote 0 Vote  7:08pm 26 Jul 2017

मन से आज़ादी

- वीर विनोद छाबड़ाकई साल पहले की बात है। हमारे पेट में बहुत दर्द उठा। डॉक्टर से मिले। वो सिगरेट फूंक रहे थे। हमें देख कर सिगरेट बुझा दी। हमें सर से पांव तक द...
clicks 4  Vote 0 Vote  8:09am 26 Jul 2017

चाय में दोस्ती की मिठास

- वीर विनोद छाबड़ायूं तो हमें दिलो जान से चाहने वालों की कमी नहीं है। लेकिन एक हैं रवि प्रकाश मिश्रा मेरे पक्के भाजपाई दोस्त। लेकिन दोस्ती पहले और पॉलिट...
clicks 17  Vote 0 Vote  7:11pm 25 Jul 2017
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013