बाल सजग

कविता : नएपन के ख़ुशी में

 "नएपन के ख़ुशी में "हमें गुदगुदाओ इस नयापन के ख़ुशी में ,निकलो उस दुखी दहलीज़ से | जिसमें गुदगुदी के लम्हें हो, जिओ ख़ुशी के पक्षिओं की तरह,जिस पक्षी के कुछ...
clicks 0  Vote 0 Vote  3:51pm 15 Nov 2017

कविता : दिवाली आयी खुशियाँ हज़ार लायी

"दिवाली आयी खुशियाँ हज़ार लायी "दिवाली आयी खुशियाँ हज़ार लायी,, उन दीपों के बीच , वो खूब सुन्दर ख्यालों के साथ, जगमगाते बत्तियों के पास | सालों  -स...
clicks 9  Vote 0 Vote  4:04pm 13 Nov 2017

Poem :Try to fly

" Try to fly " When a little bird try to fly,fall down many times but not shy.till it rise up and then try. but its little uniques,not help him to fly.  A beautiful excitement,which is in his mind.when it see any bird flying,  its mother never teach him to fly, but it has to learn by its trying........   Poet : Devraj kumar , class: 7th, Apnaghar &...
clicks 0  Vote 0 Vote  3:45pm 13 Nov 2017

poem : Beneath the Sky

" Beneath the Sky " We surprised beneath the sky,why we can not go so high .would be also have feather, so that we can fly together.to sit on the clouds, talk a lot and clear all doubts. we face the first ray of sun, then release the ray of bun. no more problems and tension,all bad deads fprgot, turn off television. Poet : Pranjul kumar , Class : 8th, Apnaghar&nb...
clicks 0  Vote 0 Vote  3:24pm 11 Nov 2017

कविता : पढ़ाता है तू,

" पढ़ाता है तू, " अनपढ़ों को पढ़ाता है तू, सबके दिल को छू जाता है तू | इस देश के वासियों को, अच्छी बातें है बताता तू | हिंसा तेरे बस में नहीं ,अहिंसा का पा...
clicks 0  Vote 0 Vote  4:14pm 10 Nov 2017

POEM : Don't change intention

" DON'T CHANGE INTENTION "If the people is laughing at you.it's means you are doing something new.They would be compelled to change view.and give idea to you.would be thought I am crazy.and it will be make you to more lazy.but you there keep patient.and pay attention.Don't change there your intention.POET : DEVRAJ KUMAR , CLASS : 7TH , APNAGHARIntroduction : he is Devraj from Bihar state . Always ...
clicks 0  Vote 0 Vote  4:20pm 7 Nov 2017

कविता: तितली के सुनहरे पंख

"तितली के सुनहरे पंख "  तितली के सुनहरे पंख,देखकर मन बहल जाए | छुओ तितली के कोमल पंखों को ,तो टिम -टिमाते हुए उड़ जाए | सुनहरे से मौसम के पल में,तितली ...
clicks 0  Vote 0 Vote  3:49pm 7 Nov 2017

कविता : दुनियाँ घूमूँ

"दुनियाँ घूमूँ " चाह है मेरी की दुनियां घूमूँ ,हर जगह मस्ती में झूमूँ | देखूं मैं नई किरणों का शहर,जंहा न हो दुश्मनों का कहर | पद यात्रा से  हवाई यात्रा...
clicks 10  Vote 0 Vote  5:01pm 3 Nov 2017

कविता : माँ

"माँ "माँ होती है सबसे पारी, सुनती है हर बात हमारी | खाना भी वो खिलाती है, सपनों में वो आती है | माँ होती है सबसे प्यारी, अच्छी बातें बताती है | स्कूल ...
clicks 5  Vote 0 Vote  4:45pm 3 Nov 2017

कविता : अब का सोचना

"अब का सोचना "कल को  क्या अब सोचना, वो तो यूँ ही  गुजर गया | तैयार रहना है अब हमें,आने वाले कल के लिए | आने वाला जो कल है, शायद कल बदल जाए, और किसी की मि...
clicks 2  Vote 0 Vote  10:18pm 31 Oct 2017
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013