स्वप्न मेरे ...

यादों की खुशबू से महकी इक चिट्ठी गुमनाम मिली ...

जाने किसने भेजी है पर मुझको तो बे-नाम मिली आज सुबह दरवाज़ा खोला तो अख़बार के नीचे से यादों की खुशबू से महकी इक चिट्ठी गुमनाम मिली टूटी निब, पेन्सिल के टुकड़े,...
clicks 12  Vote 0 Vote  8:13am 16 Apr 2018

राम से ज्यादा लखन के नाम ये बनवास है ...

जिनके जीवन में हमेशा प्रेम है, उल्लास हैदर्द जितना भी मिले टिकता नहीं फिर पास है   दूसरों के घाव सिलने से नहीं फुर्सत जिन्हेंअपने उधड़े ज़ख्म का उनको कह...
clicks 0  Vote 0 Vote  10:05am 9 Apr 2018

कुछ ख़त हमारी याद के पन्नों से धुल गए ...

लम्हे जो गुम हुए थे दराजों में मिल गए दो चार दिन सुकून से अपने निकल गएडट कर चुनौतियों का किया सामना मगरदो आंसुओं के वार से पल भर में हिल गए दुश्मन के तीर प...
clicks 15  Vote 0 Vote  9:24am 2 Apr 2018

जीत या हार ...

सपने पालने की कोई उम्र नहीं होती वो अक्सर उतावली हो के बिखर जाना चाहती थी ऊंचाई से गिरते झरने की बूँद सरीखी ओर जब बाँध लिया आवारा मोहब्बत ने उसे ...  उतर गई ...
clicks 20  Vote 0 Vote  8:14am 26 Mar 2018

समय - एक इरेज़र ... ?

यादें यादें यादें ... क्यों आती हैं ... कब आती हैं ... कैसे आती हैं ... जरूरी है यादों की यादों में रहना ... या साँसों  का हिसाब रखना ... या फिर जंगली गुलाब का याद रखना ...
clicks 18  Vote 0 Vote  1:00pm 19 Mar 2018

सफ़र जो आसान नहीं ...

बेतहाशा फिसलन की राह पर काम नहीं आता मुट्ठियों से घास पकड़ना   सुकून देता है उम्मीद के पत्थर से टकराना या रौशनी का लिबास ओढ़े अंजान टहनी का सहारा  थाम ल...
clicks 39  Vote 0 Vote  9:17am 12 Mar 2018

क़र्ज़ मुहब्बत का ...

उम्र खर्च हो जाती है लम्हा लम्हातुम्हारी यादों का सिलसिला ख़त्म नहीं होताकडाके की ठंड और बरसाती लम्हों के बीच बूढ़ी होती दूकान से उठती अदरक वाली चाय की मह...
clicks 29  Vote 0 Vote  10:08am 5 Mar 2018

साक्षात्कार ब्रह्म से ...

ढूंढता हूँ बर्फ से ढंकी पहाड़ियों परउँगलियों से बनाए प्रेम के निशान मुहब्बत का इज़हार करते तीन लफ्ज़ जिसके साक्षी थे मैं और तुम और चुप से खड़े देवदार के कुछ ऊ...
clicks 5  Vote 0 Vote  10:54am 26 Feb 2018

कहानी प्रेम की ...

तुम्हारा प्यार जैसे पहाड़ों पे उतरी कुनमुनी धूप झांकती तो थी मेरे आँगन   पर मैं समझ न सका वो प्यार की आंख-मिचोली है या सुलगते सूरज से पिधलती सर्दियों की ...
clicks 7  Vote 0 Vote  4:22pm 20 Jan 2018

उम्र के छलावे ...

सभी मित्रों को नव वर्ष की हार्दिक मंगल कामनाएं ... २०१८ सबके लिए शुभ हो. नव वर्ष की शुरुआत एक रचना के साथ ... जाने क्यों अभी तक ब्लॉग पे नहीं डाली ... अगर आपके द...
clicks 35  Vote 0 Vote  11:34am 3 Jan 2018
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013