Amit Mishra

तुम और चाय...भाग-2

पिछला भाग पढ़ने के लिये इस लिंक पर:https://poetmishraji.blogspot.com/2018/03/blog-post_24.html सुनी मैंने तुम्हारी चाय और वो बातें...हाँ  मुझे  तो  सब  कुछ  याद हैवो  चाय  और  अपनी ...
clicks 8  Vote 0 Vote  11:10am 19 Jun 2018

क्यों यहाँ सफाई देता है..

इस वीराने में  भी शोर  सुनाई  देता हैबिन बारिश के ही मोर दिखाई देता ह...
clicks 8  Vote 0 Vote  8:34pm 14 Jun 2018

बेचैनी...

आधी रात का समय था अचानक रवि की आँख खुल गयी, पास में पड़े मोबाइल को उठाया ...
clicks 8  Vote 0 Vote  10:38am 12 Jun 2018

महाभारत मैं हो जाऊँ

जो बनना हो इतिहास मुझेतो महाभारत मैं हो जाऊँपांडव कौरव में भेद नहीमैं किरदारों में ढल जाऊँजो मोह त्याग की बात चलेमैं भीष्म पितामह हो जाऊँशांतनु संग गंग...
clicks 3  Vote 0 Vote  12:16pm 4 Jun 2018

आँखें जो खुली..

आँखें जो खुली तो उन्हें अपने क़रीब पाया ना थाकभी थे रूह में शामिल आज उन...
clicks 10  Vote 0 Vote  10:39am 1 Jun 2018

वो कविता सी स्वच्छंद सदा

वोकवितासीस्वच्छंदसदामैंग़ज़लोंसालयबद्धरहूँवोप्रेमत्यागकीपरिभाषामैंउसकेलियेनिबंधरहूँवोचाँदसीएकलालिमालियेमैंतारोंसाबिखराहीरहूँवोनदियोंसीह...
clicks 18  Vote 0 Vote  5:26pm 26 May 2018

बीती रात का इश्क़...

बीती रात वो कुछ इस तरह हमें बरगलाते रहेतलब थी खट्टे आम की  वो अंगूर खि&...
clicks 11  Vote 0 Vote  10:36am 25 May 2018

कोई दीवाना होगा...

एक इशारे पे मर मिटा कोई दीवाना होगाबिन शमा जल गया कोई  परवाना  होगार...
clicks 30  Vote 0 Vote  6:55am 21 May 2018

अपने पराये की पहचान..

जब से हमें अपने परायों की पहचान हो गयीतन्हा ही रहता हूँ  पूरी दुनिया&nb...
clicks 14  Vote 0 Vote  6:46am 18 May 2018

तेरी गुस्ताखियां...

तेरी गुस्ताखियां  हर दफ़ा  दरकिनार करते रहेतेरी खताओं को नादानी समझ...
clicks 22  Vote 0 Vote  10:38am 10 May 2018
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013