tHe Missed Beat

पूजा की थाली तुलसी का पत्ता हैं माँ.....!!!

एक इबादत एक दुआ हैं माँ,मेरी सारी मन्नते मेरा ख़ुदा है माँ,हार जाती हैं जमाने भर की मुश्किलेहर उलझन को आसा हैं माँ,क्यो सफ़ेद चादर तूने ओढ़ लीअब्बा के बाद तुझ...
clicks 18  Vote 0 Vote  1:24pm 8 Nov 2018

चाँदनी नीली रात फिर उफ़ान पे है.....

जो तेरा ज़िक्र  मेरी जुबान पे हैं चाँदनी नीली रात फिर उफ़ान पे है .. . !!!एक बार जो वो गुलबदन गुज़रा था यां से,उसकी खुशबु कबसे मेरे मकान पे है ,आज फ़िर वो सज सवर के...
clicks 0  Vote 0 Vote  3:24pm 3 Nov 2018

बैठ के सुबह शाम को मैं लिखता रहा ,

   बैठ के सुबह शाम को,मैं लिखता रहा ,ख़त एक अन्जान को मैं लिखता रहा .नीद कम आंख नम होने लगी ,फिर भी ख्याल गुमनाम को मैं लिखता रहा ....और भी शै हैं मैंने जाना नह...
clicks 0  Vote 0 Vote  1:14pm 1 Nov 2018

बर्तन माझती कुम्हारिन के हुस्न पर ग़रीबी हावी हैं..!!!

किसी की आँख  हैं पीली किसीकी आँखे गुलाबी हैं,बर्तन माझती कुम्हारिन के हुस्न पर ग़रीबी हावी हैं..!!!प्रेम की दीपक तुमने हज़ारो किताबो में जला रखे,मुफलिशी और ...
clicks 5  Vote 0 Vote  9:42am 27 Oct 2018

वजह की ज़िद में ज़िन्दगी का मज़ा नही ले पायेगा......!!!

ज़ुनून जब तेरा हद से गुज़र जाएगा,वजह मे फसेगा तो सारा खेल बिगड़जायेगा,इस कसमकश की वजह भी तभी जान पायेगा,दुनिया की तमाम वजहों से जब फ़रिक हो जायेगा,बारिशो में भ...
clicks 10  Vote 0 Vote  7:33am 20 Oct 2018

कितने राज कल रात दफ़न हो गये....

सारी शिकायते सारे शिक़वे ख़त्म हो गये,कितने राज कल रात दफ़न हो गये,बड़े बेक़रार लोग भटकते रहे थे कई रोज़,सारे मसाइल मसले लिपट कर कफ़न हो गये,हज़ार बार की मिन्नतों स...
clicks 10  Vote 0 Vote  8:31am 15 Oct 2018

मुझसे हो नही पाया तुम कर नही सकते.....

जख्म ये उम्र भर तुम भर नही सकतेमुझसे हो नही पाया तुम कर नही सकते,छोड़ कर हाथ,तुमने दरिया मोड़ तो दिया हैंडूब तो सकते हो तुम इसमे तर नही सकते,कुछ हौसला कुछ हिम...
clicks 14  Vote 0 Vote  7:26am 10 Oct 2018

धूर्त ही बिसात हो तो ,हौसले कैसे बरकरार रखे....!!!

कौरवो संग चौसर में कैसे धर्म को साध रखेधूर्त ही बिसात हो तो ,हौसले कैसे बरकरार रखे,माना आखेट के जंगल में चीख़ों का चक्रव्यूह भी हैं,आँख ही न मींचले तो कैसे ज...
clicks 6  Vote 0 Vote  8:05pm 6 Oct 2018

मुझसे यकीन बनकर तू लिपट क्यो नही जाता.....

ये ग़म का साग़र छलक क्यो नही जाता,जाते जाते वो पलट क्यो नही जाता...आँखों में तैरता हैं जो बदली बनकर,उफान में टूटकर बाहों मैं बरस क्यो नही जाता,हौसले अपने पानी ...
clicks 13  Vote 0 Vote  8:53am 5 Oct 2018

कोई मीरा अभी ये कंहा जान पायी हैं...

मैं ये कैसे कह दूँ गुलशन में बहार आयी हैं,इन अंधेरों ने तो सौ ऑंख रात रुलाई है,हर प्याला हर महफ़िल फ़क़त ज़हर का घूँट यहाँ,गोया कोई मीरा अभी ये कहाँ जान पायी ह...
clicks 12  Vote 0 Vote  9:51pm 29 Sep 2018
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013