palash "पलाश"

अब न मानूंगी भगवान तुझे

बस भी करो अब देवी कहनापहले समझो तो इंसान मुझेदिखलाओ जरा साथी बनकरअब न मानूंगी भगवान तुझेकदम कदम पर छलते चलतेऔर पतिदेवता कहलाते होकभी जोर से कभी फुसलाकर...
clicks 14  Vote 0 Vote  4:40pm 7 Jul 2018

सोशल मीडिया में हमारी भूमिका

आज के समय में ऐसा कोई भी वर्ग नही जो सोशल मीडिया से जुड़ा हुआ न हो, 6७ साल के बच्चे से लेकर ८0-८५ वर्ष का वृद्ध भी आपको यहां मिल जायगा। ऐसा कोई भी विषय नही जिसकी ...
clicks 37  Vote 0 Vote  11:45am 5 Jul 2018

न यूं ही कहो हम हैं सही

बुरा किसी को कहने सेबुराइयां गर होती खत्मशायद ये दुनिया जन्नत से भीकही ज्यादा होती हसीं जानते हो आप भी यकी ये हमे भी हैमहज चर्चा बुराइयों का करने सेजमीं ...
clicks 26  Vote 0 Vote  1:16am 4 Jul 2018

हिंदी प्रेम

खाना खाने के बाद, बच्चे टी वी देखने में मस्त हो गये और पत्नी जी किचन का काम समेटने लगी। अवस्थी जी मोबाइल ले कर बाहर लॉन में निकल आये। अवस्थी जी चार साल पहले ...
clicks 22  Vote 0 Vote  3:50pm 23 Jun 2018

करती हूँ आह्वाहन मै

करती हूँ आह्वाहन मै, बस पढे लिखे समझदारों सेदेखो जरा निकलकर दुनिया, फेसबुक की दीवारों सेबूढ़ी माँ लाचार पिता, हर पल राह तुम्हारी तकते हैंधन दौलत की चमक नही...
clicks 5  Vote 0 Vote  11:39pm 20 Jun 2018

करती हूँ आहवाहन मै

करती हूँ आहवाहन मै, बस पढे लिखे समझदारों सेदेखो जरा निकलकर दुनिया फेसबुक की दीवारों सेबूढ़ी माँ लाचार पिता हर पल राह तुम्हारी तकते हैंधन दौलत की चमक नही, त...
clicks 25  Vote 0 Vote  11:39pm 20 Jun 2018

प्यार मोहब्बत बदल गया

जाने कब कैसे बदलेअपने, रिश्तेदारों मेंप्यार मोहब्बत बदल गयादेखो कैसे व्यवहारों मेंछोटी छोटी बातों परजिनसे कल तक लडते थेमार पीट झगडे करके भीसंग घूमते ख...
clicks 23  Vote 0 Vote  3:42pm 19 Jun 2018

अंतिम विदा

सोचा न था कभी मैनेहोगा कष्टकारी इतना सबसे अंतिम विदा लेनासबसे दूर चले जानाअब जब जाने की वेला मेंबस दो क्षण ही शेष रहेजीवन के अनगिनत पलआंखों में मेरी तैर ...
clicks 17  Vote 0 Vote  1:08pm 7 Jun 2018

अजनबी हूं

पल दो पल के लिये आया हूं, तेरे शहर में यारोंकुछ ऐसा बोकर जाऊंगा, तुम्हे याद बहुत आऊंगा कई चेरहे कुछ फीके, कुछ उदास नजर आते हैमुस्कुरा सके दो पल, ऐसी बात दे कर...
clicks 19  Vote 0 Vote  4:35pm 6 Jun 2018

तैयारी

सुबह उठने के साथकरने लगती हूं तैयारीघर छोडने कीहाथ मुंह धुलते धुलतेवही उतार कर रख देते हूंमन की थकनजो नही मिटी सो कर भीबैग पैक करते करतेपैक कर देती हूंर...
clicks 22  Vote 0 Vote  5:22pm 4 Jun 2018
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C

Copyright © 2009-2013