चौथाखंभा

जो लोग अपने मां—बाप को प्रेम दे पाते हैं, उन्हें ही मैं मनुष्य कहता हूं..

ओशो को पढ़िएआपने कल माता और पिता के बारे में जो भी कहा, वह बहुत प्रिय था...
clicks 12  Vote 0 Vote  6:21am 17 Jun 2019

धार्मिक आधार पे जागती है हमारी संवेदनाएं...कहीं रुदन, तो कहीं खामोशी क्यों..

अरुण साथी कठुआ में काठ मारने वाली घटना दुष्कर्म के आरोपियों को जिस द&#...
clicks 1  Vote 0 Vote  8:37am 11 Jun 2019

भक्तिकाल में महाभक्त

भक्तिकाल में महाभक्त(अरुण साथी, भक्तों के भय से कांपते हाथों ने बटन द&...
clicks 4  Vote 0 Vote  9:41am 19 May 2019

ओशो को पढ़िए: भारत के जलते प्रश्न : युवा रास्ता भटक गया है?

आजादी के 68 साल बित गए लेकिन पहले की अपेक्षा युवाओं की मानसिकता में त...
clicks 12  Vote 0 Vote  8:26am 19 Apr 2019

धर्म

धर्म(सच्ची घटना पे आधारित लघु कथा)अरुण साथीहमलोग चार-पांच साथी एक स्&#...
clicks 43  Vote 0 Vote  7:32am 18 Apr 2019

चोर से भला चौकीदार (व्यंग्य)..

चोर से भला चौकीदार! (व्यंग्य)अरुण साथीदो निपुण चोर एक ही शहर में चोरी करते थे। चोरी करने की अपनी अद्भुत प्रतिभा के दम पर देशभर में दोनों की बड़ी ख्याति थी। ...
clicks 79  Vote 0 Vote  8:54am 25 Mar 2019

लोकतंत्र नहीं, लहर तंत्र है..

लोकतंत्र नहीं, लहर तंत्र है..नवादा लोकसभा सहित कई क्षेत्रों से कौन उम&...
clicks 93  Vote 0 Vote  7:47am 15 Mar 2019

गोदी मीडिया के सहारे चौथे खंभे पे प्रहार..

गोदी मीडिया!! मीडिया के मनोबल तोड़ने की एक जबरदस्त साजिशआजकल भारत के &...
clicks 23  Vote 0 Vote  9:26am 7 Feb 2019

हिंसात्मक होते समाज का सच और आंखों देखा हाल..

अरुण साथीसड़क हादसे में मौत के बाद जो मंजर आजकल विभिन्न जगहों पे देखन&#...
clicks 26  Vote 0 Vote  8:51am 16 Jan 2019

छुट्टा सांढ़...

( व्यंग्यात्मक रचना है दिल पे न लें)तीन विकेट उखड़ते ही दो बातें हुई। एक...
clicks 38  Vote 0 Vote  1:31pm 23 Dec 2018
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C [ FULL SITE ]

Copyright © 20018-2019