नजरिया

एक नया ज्ञान – हमारे व्यवहार पर...

       अपने सामाजिक, पारिवारिक व कारोबारी जीवन में जो हम जो कुछ भी कार्य-व्यवसाय, सम्बन्ध, सम्पत्ति बना व कमा पाते हैं उनमें हमारी बहुत सी योग्यता...
clicks 18  Vote 0 Vote  9:19am 10 Nov 2019

जनसेवा - जीवनसेवा का अपना-अपना तरीका...

       बात कुछ पुरानी है, चिकित्सा के क्षेत्र में इन्दौर के एक सिद्धहस्त चिकित्सक के पास शहर से लगभग 100 कि. मी. दूर के किसी गांव से एक बीमार-वृद्ध महिला क...
clicks 19  Vote 0 Vote  8:40am 7 Nov 2019

कितनी भारी – फेसबुक की खुमारी...

       फेसबुक की उपयोगिता व इसका खुमार सामान्यजन के जीवन में जिस तेजी से फैल रहा है चलते-फिरते इंटरनेट युक्त स्मार्फोन के इस युग में ये किसी से छुपा न...
clicks 23  Vote 0 Vote  6:43am 5 Nov 2019

कितने घातक ऐसे फेसबुकी फ्रेंड...

       फेसबुक की उपयोगिता व इसका खुमार सामान्यजन के जीवन में जिस तेजी से फैल रहा है चलते-फिरते इंटरनेट युक्त स्मार्फोन के इस युग में ये किसी से छुपा न...
clicks 8  Vote 0 Vote  6:43am 5 Nov 2019

व्यथा गृहलक्ष्मी की....

     प्रायः सभी एकल भारतीय परिवारों में यदि बच्चे बहुत छोटे न रहे हों और मुख्य गृहिणी नौकरी-पेशा न हो तो एक समस्या अक्सर सामने आती है और वो है पति के क...
clicks 12  Vote 0 Vote  6:57am 1 Nov 2019

भाई-भतीजावाद के इस युग में...

       देश भर में पिछले 3 वर्षों से स्वच्छ शहरों में नं. 1 का खिताब जितने वाले इन्दौर में पिछले सप्ताह खबर सामने आई कि यहाँ के नगर-निगम में बायोमेट्र...
clicks 37  Vote 0 Vote  6:45am 30 Oct 2019

सुखी वैवाहिक जीवन का राज...!

         एक दंपत्ति नें जब अपनी शादी की 25वीं वर्षगांठ मनाई तो एक पत्रकार उनकासाक्षात्कार लेने पहुंचा । वो दंपत्ति अपने शांतिपूर्ण और सुखमय वै...
clicks 3  Vote 0 Vote  9:55pm 26 Oct 2019

बुरे विचारों से बचें.

           बाबु मोशाय... कभी-कभी ऐसा होता है कि किसी आदमी ने हमारा कोई भला नहीं किया लेकिन वो हमें अच्छा लगता है । हाँ...  और कभी-कभी ऐसा भी होता है...
clicks 21  Vote 0 Vote  7:40am 26 Oct 2019

अपनी नौकरी खुद करें...

           एक चिड़िया का घोंसला एक किसान के खेत में था । एक दिन शाम को जब चिड़िया घोंसले में आयी तो उसके बच्चों ने डरते हुए बताया कि आज किसान औ...
clicks 19  Vote 0 Vote  10:07am 24 Oct 2019

माता-पिता का अभिमान – बेटियां.

      शादी के बाद विदाई का समय था,  नेहा अपनी माँ से मिलने के बाद अपने पिता से लिपट कर रो रही थी।वहाँ मौजूद सब लोगों की आंखें नम थी।नेहा ने घूँघट निक...
clicks 35  Vote 0 Vote  10:05am 22 Oct 2019
[ Prev Page ] [ Next Page ]
 
CONTACT US ADVERTISE T&C [ FULL SITE ]

Copyright © 20018-2019